शिमला में हरियाणा की बेटी के साथ हुई घटना शर्मसार – जयहिन्द

Faridabad Haryana

सत्यखबर फरीदाबाद (ब्यूरो रिपोर्ट) – बृहस्पतिवार को आम आदमी पार्टी प्रदेशाध्यक्ष पंडित नवीन जयहिन्द ने रोहतक में मिडिया से बातचीत में हरियाणा की बेटी के साथ शिमला में हुए दुष्कर्म को लेकर भाजपा सरकार की संवेदनहीनता पर कहा कि हिमाचल की राजधानी शिमला में हरियाणा की बेटी के साथ जो घटना हुई है वो न सिर्फ अमानवीय बल्कि इंसानियत को भी शर्मसार करने वाली है। इस घटना के बाद पुलिस ने परिवार व लड़की की मदद करने के बजाए मानसिक रूप से उन्हें ही प्रताड़ित किया और हरियाणा व हिमाचल दोनों ही सरकारें ऑंखें बंद कर बैठी है।

घटना के 15 दिन बाद भी पुलिस अपराधियों को नही पकड़ पा रही है। जहाँ भाजपा की सरकारें अपने आप को चौकीदार कह रही है वही बेटियों व छोटी-छोटी बच्चियों के साथ बलात्कार व छेड़छाड़ जैसे जघन्य अपराध हो रहे है। आये दिन देश व प्रदेश में ये घटनाये कम होने की बजाये बढती जा रही है। और जनता का कानून व प्रशासन पर से विश्वास उठता जा रहा है। माता-पिता अपनी बेटियों को घर से बाहर भेजने से कतरा रहे है कि कही उनके साथ भी कोई अनहोनी न हो जाए।

जयहिन्द ने कहा कि चौकीदार मुख्यमंत्री खट्टर अपने चौकीदार साथी हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से बात कर हरियाणा की बेटी को न्याय दिलाए व पुलिस परिवार को तंग करने के बजाय अपराधियों की जल्द से जल्द पकड़ें। सरकार परिवार व लड़की को सुरक्षा दे ताकि उनकी जान को खतरा न रहे। आम आदमी पार्टी पीड़ित परिवार के साथ तन-मन-धन से है और उनकी हर सम्भव मदद देगी।

फरीदाबाद मामले की हो सीबीआई जाँच – जयहिन्द
वही प्रदेशाध्यक्ष ने फरीदाबाद में पास कराने के बहाने से लडकियों के हुए शारीरिक शोषण पर सरकार की कार्य प्रणाली पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि ये घटना छोटे-मोटे स्तर पर नही बल्कि बड़े स्तर पर हुई है और प्रशासन पूरी तरह से महिला सुरक्षा में फेल रहा है। क्या सरकार का ख़ुफ़िया विभाग पूरी तरह से सो रहा है जो इतने बड़े स्तर पर इस तरह की शर्मनाक घटना की भनक तक नही लगी। भाजपा सरकार देश व प्रदेश में महिला सुरक्षा देने में पूरी तरह से नाकाम रही है। इस मामले की सीबीआई जाँच हो व छात्राओं को सुरक्षा दी जाए ताकि उन पर किसी भी तरीके से दबाव न बनाया जा सके। इस मामले में किसी भी तरीके से राजनीतिक हस्तक्षेप न हो। साथ ही सरकार व प्रशासन किसी भी तरीके से संवेदनहीनता न बरते और दोषियों पर जल्द से जल्द कार्यवाही।