फरीदाबाद की गौशाला मे 30 गायों की दर्दनाक मौत, मृत गायों के शव को नोंच रहे हैं कुत्ते

Faridabad Haryana

सत्यखबर फरीदाबाद (मनोज सूर्यवंशी) – दिल्ली से सटे फरीदाबाद मे गौ माता के 25 से 30 शव पानी मे तैरते दिखाई देने का एक वीडियो बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है , इस वीडियो मे मृत गायों के शव पानी मे तैरते हुए और कुत्तों द्वारा नोच-नोच कर शवों को खाने को दिखाया गया है, वायरल वीडियो की पड़ताल करने पर पता चला की ये वीडियो फरीदाबाद के छांयसा गाँव की एक गोशाला की है और बिलकुल सही है, ग्रामीणों ने गौशाला संचालकों पर लापरवाही बरतने के गम्भीर आरोप लगाएं है, उनका आरोप है की गौमाता के मरने के बाद गौशाला संचालक उनके शवों को यूँ ही खुल्ले में फैक देते है जिसके बाद कुत्ते उन्हें नोच नोंच कर खाते है।

गौमाता के मरने के बाद दुर्दशा की वायरल तस्वीरें गौ माता पर राजनीति करने वाली बीजेपी सरकार और गौ भग्तों से सवाल पूछ रही है की आखिर कबतक उन पर यूँ ही राजनीति होती रहेगी या उनके रहन सहन और संरक्षण के लिए जमीनी स्तर पर कोई ठोस कदम उठाये जायेंगे।गौरतलब है की बीजेपी सरकार ने गायों की रक्षा के लिए हरियाणा गौ सेवा आयोग का गठन किया है जिसके चेयरमेन भानी राम मंगला है इस वायरल वीडियो के बारे में जब हमने उनसे फोन सम्पर्क साधा तो उन्होंने हमारी पूरी बात सुने बगैर ही हमारा फोन काट दिया। खैर चलिये बता दे की पानी मे तैरती और कुत्तों द्वारा नोच -नोच कर खाते हुए दिल दहला देने वाली इस वायरल तस्वीर के बारे में हमने इसकी पड़ताल की तो पाया की ये वीडियो दिल्ली से लगभग 50 किलोमीटर दूर फरीदाबाद के छांयसा गाँव मे बनी देहली पिंजरापोल गौशाला की है और पूरी तरह सही है जहाँ मृत गायों के शव पानी मे तैर रहे है और उनके शवो को कुत्ते नोच-नोच कर खा रहे है।

लेकिन जब हम पहुँचे तो गौशाला संचालकों ने उन गाय के शवों को गड्ढा खोद कर दबा चुके थे, लेकिन हमने मौके पर पाया की गड्ढे से निकले गाय अंगों को अभी भी कुत्ते नोंच -नोंच कर खा रहे थे। गौ माता शवों के साथ हो रही इस दुर्दशा के बाद ग्रामीणों मे भारी रोष है। लोगों का आरोप है की गोशाला के संचालक और कर्मचारियो की लापरवाही की वजह से इन गायों की मौत हुई है, उनके मुताबिक 24 घंटे डाक्टरों के होने के होने के बाद भि गोशाला मैं लगातार गायों के मरने का सिलसिला जारी है गांव के लोगो को जैसे ही इतनी बड़ी संख्या मे गायों की मौत का पता चला तो इलाके मे हड़कंप मच गया दर्जनों की संख्या मे लोग मोके पर इख्ठा हो गए लोगो के मुताबिक सबसे बड़ी बात ये थी की इस वायरल वीडियो की सच्चाई जानने की कोशिश अभी तक किसी भी प्रशासन के अधिकारी ने नहीं की और न ही कोई नेता मौके पर पहुँचा सबसे बड़ी बात है की इस गाँव को केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने गोद भी लिया हुआ है और गाँव के लोगों का कहना है की आज तक मंत्री जी इस गाँव में नहीं पहुंचे है।

वही मोके पर आये दुसरे लोगो से बात की तो उन्होंने बताया की गांव के लोगो ने गोशाला के लिए अपनी 26000 बीघे ज़मीन दान थी लेकिन गोशाला के संचालक और कर्मचारियों ने सारी ज़मीनों को पट्टे पर देकर मुनाफा कमाते है और गायों की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा लोगो के मुताबिक लापरवाही के चलते इन गायों की मौत हुई है ये गोशाला निजी लोगो के द्वारा संचालित की जा रही है जो की दिल्ली मे रहते है, गोशाला और गायों के नाम पर लोगो नै अपना धंधा बना रखा है गायों के ली दी गई ज़मीन का इस्तेमाल गायों की सेवा के लिए नहीं बल्कि अपने निजी हितों के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है इसलिए गायों की और किसी का ध्यान नहीं है और गायों की लगातार मौत हो रही है और इनके शवों को कुत्ते नोच कर कहते है